मेरी जुबान

मेरी जुबान

कुछ भी देख कर अब खून खौलता नहीं|

जुबान है सबके पास पर कोई बोलता नहीं||

हर आँख में आँसू हैं हर जुबान खामोश है |

सच्चाई सलीबों पर है तो इसमें किसका दोष है||

हर सीने में शोर है पर बाहर है सन्नाटा |

इन पथरीले चेहरों पर जड़ ज़ोर का चांटा||

चुप रहना है गुनाह कुछ तो बोल यहाँ |

रूह के सौदागरों की खोल दे पोल यहाँ ||

हर गलत के खिलाफ अपनी आवाज उठा |

तस्वीर बदलने का अपना दायित्व निभा||

बाहरी व्यवस्था को नगाड़े बाजा जगाएगी|

“मेरी जुबान” अब आपकी जुबान बन जाएगी||

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s