naheen karate

नहीं करते

यूं दिल के जज्बों को रुसवा कराया नहीं करते||

खत किसी को लिखकर जलाया नहीं करते||

सूरज से भी आँख मिलाने का दम रखते हैं

ये हौंसला हम सब पे मगर नुमाँया नहीं करते||

राज़दान एक हो तो राज बना रहता है

यूँ हाले-दिल सबको बताया नहीं करते||

आँखों में ही जो ठहरे तो शोले हो जाएंगे

पलकों से ये बूंदे गिराया नहीं करते||

ढूंढोगे तो मिलेगा अंधेरे में भी रास्ता

रौशनी के लिए घर किसी का जलाया नहीं करते||

‘उदास’ महफिलों की ज़ीनत है हमारी तबस्सुम

वरना तनहाई में तो कभी मुस्कराया नहीं करते||

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s